Brahmvaivart Puran

Front Cover
Diamond Pocket Books Pvt Ltd - 160 pages

भारतीय जीवन-धारा में जिन ग्रंथों का महत्वपूर्ण स्थान है उनमें पुराण भक्ति ग्रंथों के रूप में बहुत महत्वपूर्ण माने जाते हैं । पुराण-साहित्य भारतीय जीवन और साहित्य की अक्षुण्ण निधि हैं । इनमें मानव जीवन के उत्कर्ष और अपकर्ष की अनेक गाथाएं मिलती हैं । कर्मकांड से ज्ञान की ओर आते हुए भारतीय मानस चिंतन के बाद भक्ति की अविरल धारा प्रवाहित हुई । विकास की इसी प्रक्रिया में बहुदेववाद और निर्गुण ब्रह्म की स्वरूपात्मक व्याख्या से धीरे-धीरे भारतीय मानस अवतारवाद या सगुण भक्ति की ओर प्रेरित हुआ । अठारह पुराणों में अलग- अलग देवी देवताओं को केन्द्र मान कर पाप और पुण्य, धर्म और अधर्म, कर्म और अकर्म की गाथाएं कही गई हैं ।

आज के निरन्तर द्वन्द्व के युग में पुराणों का पठन मनुष्य को उस द्वन्द्व से मुक्ति दिलाने में एक निश्चित दिशा दे सकता है और मानवता के मूल्यों की स्थापना में एक सफल प्रयास सिद्ध हो सकता है । इसी उद्देश्य को सामने रख कर पाठकों की रुचि के अनुसार सरल, सहज भाषा में पुराण साहित्य की श्रृंखला में यह पुस्तक प्रस्तुत है ।

 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 9
Section 10
Section 11

Other editions - View all

Common terms and phrases

अंश अनेक अपनी अपने आप इन्द्र इस इसके इसी उनका उनके उन्हें उस उसके उसे उह उहने एक ऐसा और कर करके करता है करते हए करने कहा िक का काम कि किया की कृण ने कृष्ण कृष्ण के के कारण के लए के समान के साथ को गंगा गई गणेश गया जब जाता है जाने जो तक तथा तब तुम तो था थी थे दिया देवी द्वारा नह नहीं नाम नारद नारायण ने ने कहा पर परशुराम पार्वती पु पुत्र पुराण पूजा बताया बाद बार बालक ब्रह्मा भगवान् भी मन मुझे मुनि मुिन में मेरे यह यहां रहे रा राजा राधा रूप में लगे लिए लोक वह वहां वाला वाली वाले विष्णु वे वेद शंकर शाप शिव सब सभी समय से हं हई ही हुआ हुई हुए है है और हैं हो गये होकर होता है होने ाण ारा िकया िदया िशव

About the author

 

Bibliographic information