Matsaya Puran

Front Cover
Diamond Pocket Books (P) Ltd. - 152 pages
 

What people are saying - Write a review

User Review - Flag as inappropriate

good but it should be printable

Selected pages

Contents

Section 1
5
Section 2
9
Section 3
11
Section 4
13
Section 5
91
Section 6
93
Section 7
111
Section 8
126
Section 10
133
Section 11
136
Section 12
139
Section 13
145
Section 14
Section 15
Section 16
Copyright

Section 9
132

Other editions - View all

Common terms and phrases

अग्नि अनेक अपना अपनी अपने आदि आप इंद्र इन इस इस प्रकार इसके उत्पन्न उनके उनसे उन्हें उन्होंने उस उसका उसके उसने उसे एक एवं ओर कर कर दिया करके करता करते हुए करना करने करने के करें का किया किया और किसी की कुछ के कारण के पास के बाद के रूप में के लिए को कोई गई गया चाहिए जन्म जब जाने जो तक तथा तप तब तुम तो था थे दंड दान दानव दानवों दिन दिया देखकर देवता देवताओं देवों दैत्य दो द्वारा धर्म धारण नहीं नाम ने पर पुत्र पुराण पृथ्वी प्रकार प्रसन्न प्राप्त फिर बहुत बात ब्रह्माजी भगवान भगवान नारायण भी मत्स्य मुझे मैं ययाति यह यहां युद्ध रहे राजा लगा लगे लिया लेकिन वह वहां वाला वाले विष्णु वे शंकर शिवजी श्री सभी समय समान सुनकर सूर्य सृष्टि से ही हुआ हुई हुए हूं हे है और हैं हो हो गया होकर होने

Bibliographic information